• Tue. Jun 28th, 2022

इस्लामिक आतंकियों के प्रथम निशाने पर RSS के स्वयं सेवक थे.

Byadmin

Mar 18, 2022

यदि आप काशमीर फ़ाइल्ज़ ध्यान से देखें और समझें तो पाएँगे कि इस्लामिक आतंकियों के प्रथम निसाने पर RSS के स्वयं सेवक थे. इसकी मूल वजह यही थी कि इतने वृहद् स्तर पर RSS ही इकमात्र संगठन है जो हिंदुवों को एकत्रित कर चलता है, केवल राष्ट्र धर्म ही नहीं आपात काल में आयुध प्रबंधन तक सिखा देता है।

एक RSS प्रचारक की कार्यशैली पर तो पुस्तकें लिखी जा सकती हैं. सुबह शाखा फ़िर किसी के गृह पर चाय पे चर्चा. दोपहर भोजन किसी और के घर।इसी दौरान विचार विमर्श आदि। न केवल आयडीआलॉजी मज़बूत की जाती है बल्कि कम्यूनिटी लिविंग के बेसिक्स सिखाते हुवे स्वयमेव एकता समझ आ जाती है।

कुछ लोग बोलते है कि RSS RAW का ही दूसरा रूप है।सब स्वयं सेवक अपने सामान्य जीवन में कोई डॉक्टर कोई इंजीनियर कोई लिपिक कोई कृषक. मौक़ा पड़ने पर रूप परिवर्तित होकर संघी. राष्ट्र के लिए समर्पित।
RSS join करना अलग बात, पर RSS के सम्पर्क में अवश्य रहिए, यह आपकी जीवन शैली को सही दिशा देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort