• Sat. Jun 25th, 2022

कसमे वादे प्यार वफा सब बातें हैं बातों का क्या कोई किसी का नहीं यह रिश्ते नाते हैं नातों का क्या

Byadmin

Nov 18, 2020

कसमे वादे प्यार वफा सब बातें हैं बातों का क्या कोई किसी का नहीं यह रिश्ते नाते हैं नातों का क्या

कोरोना काल में दिवंगत हुए 100 से अधिक लोगों की अस्थियां अपने रिश्तेदारों के फूल तक लेने के लिए लोग नहीं पहुंचे उन्हें लावारिस मानकर सरकारी कर्मचारियों ने हाल ही में उनकी अस्थियों का विसर्जन कर दिया। क्या विडंबना है सारे रिश्ते नाते परिवार के व्यक्ति की आंख बंद होने के बाद चाहे पिता हो या मा हो भाई हो या बहन हो पत्नी हो या बच्चे हो उसको भूल गए अंतिम समय में उसको मोक्ष भी ना मिल पाए इसलिए उसकी अस्थियां भी विसर्जन तक करने नहीं आये हम लोग स्वार्थ में इतने अंधे हो गए हैं या मौत का डर हमें इतना सता रहा है कि हम अपने खून के रिश्तो,व संबंधों को भी भूल गए और हमारे अपने परिवार के ही मृतक लोगों के अस्थियों को लावारिस मानकर लोगों ने विसर्जित करके गरीबों को भोजन कराया और उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की हम सब को विचार करना चाहिए हम सब कहां जा रहे हैं क्या सोच रहे हैं और आने वाले समय में सारे रिश्तों और संबंधों को किस तरह जिए और रहे इस पर गंभीरता से विचार अवश्य करना चाहिए

संवाददाता

स्मिता मिश्रा

कोलकाता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort