• Sun. May 29th, 2022

जयलाल और लेले FIR क्यों नहीं दर्ज करा रहे.?

Byadmin

Jun 1, 2021

जयलाल और लेले FIR क्यों नहीं दर्ज करा रहे.?

आप मित्रों को यह तथ्य चौंका नहीं रहा कि IMA का राष्ट्रीय अध्यक्ष जयलाल और उसका गुर्गा लेले 22 मई से लगातार धमकी दे रहा है कि अगर बाबा रामदेव ने अपना बयान वापस नहीं लिया, माफी नहीं मांगी तो जयलाल और लेले की जोड़ी रामदेव के खिलाफ पैंडेमिक एक्ट के तहत गम्भीर धाराओं में पुलिस केस दर्ज कराएगी।

जयलाल और लेले की जोड़ी अपनी इस धमकी को देश के प्रधानमंत्री तथा स्वास्थ्य मंत्री तक बाकायदा चिट्ठी लिखकर पहुंचा भी चुकी है। प्रेस विशेषकर न्यूजचैनलों पर अपनी धमकी को बार-बार लगातार दोहरा भी रही है। लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि 12 दिन बीत गए लेकिन इस जोड़ी ने ऐसी कोई FIR रामदेव बाबा के खिलाफ दर्ज नहीं करायी है। जबकि यह जोड़ी कोई अनपढ़ गंवार दिहाड़ी मजदूर की जोड़ी नहीं है। FIR भी उसे उस मुंबई में दर्ज करानी है जहां घोर भाजपा विरोधी सरकार है.?

स्वामी रामदेव गैंग खुद ही कह रहा है कि जयलाल ईसाई मिशनरी का एजेंट है। उसके गुर्गे लेले के ऐसे ट्वीट और फेसबुक पोस्टों के सैकड़ों स्क्रीनशॉट वायरल हो रहे हैं जिनमें वो प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी की आलोचना नहीं कर रहा बल्कि नंगई की सारी हदें पार कर के मोदी योगी के खिलाफ जहर उगल रहा है।

अतः जयलाल और लेले की जोड़ी स्वामी रामदेव बाबा के खिलाफ FIR दर्ज क्यों नहीं करा रही.? इन सवालोँ का उत्तर दूं उससे पहले चौंकाने वाला एक अन्य तथ्य यह भी जान लीजिए कि बाबा रामदेव के खिलाफ पैंडेमिक एक्ट की गम्भीर धाराओं के तहत एक शिकायत 9 मई को ही दर्ज हो चुकी है। उस का वर्तमान विवाद से कोई संबंध नहीं है। वह शिकायत IMA की ही पंजाब स्टेट यूनिट के वाइस प्रेसिडेंट नवजोत सिंह दहिया ने बाबा रामदेव की एक अन्य करतूत के खिलाफ जालंधर में पुलिस कमिश्नर के पास दर्ज करायी है। उस वीडियो में रामदेव ऑक्सीजन की कमी से मर रहे, तड़प रहे मरीजों की खिल्ली मूर्खतापूर्ण ठहाकों के साथ उड़ा रहे है, उन मृतकों और गम्भीर मरीजों का मजाक उड़ा रहे है। ऑक्सीजन सिलेंडरों के खिलाफ लोगों को भड़का रहे है। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से घोर रामदेव विरोधी कांग्रेस की सरकार उस शिकायत पर कोई कार्रवाई करने के बजाए 22 दिन से चुपचाप बैठी हुई है।

बाबा रामदेव के खिलाफ लंबे लंबे खर्रे लिख कर देश के प्रधानमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री को भेजने वाली जयलाल और लेले की जोड़ी जालंधर में रामदेव के खिलाफ पैंडेमिक एक्ट की गम्भीर धाराओं में 23 दिन पहले दर्ज हो चुकी उस शिकायत पर गूंगों की तरह चुप्पी साधे बैठी है। उस शिकायत पर कार्रवाई करने की कोई मांग पंजाब की कांग्रेसी सरकार से नहीं कर रही है। आखिर क्यों.?
अब इस ड्रामे का सबसे रोचक पक्ष समझिए।

22 मई को जयलाल और लेले की जोड़ी ने धमकी दी कि रामदेव ने अगर अपना बयान वापस नहीं लिया, माफी नहीं मांगी तो उस के खिलाफ पैंडेमिक एक्ट के तहत गम्भीर धाराओं में पुलिस केस दर्ज कराएंगे। इस चिट्ठी के 36 घंटे के भीतर 23 मई की रात 9:52 पर रामदेव ने देश के स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को बाकायदा चिट्ठी लिखकर यह स्वीकार कर लिया था कि मेरा जो बयान कोट किया गया है, वह एक कार्यकर्ता बैठक का है।

जिसमें मैंने आए हुए वॉट्सऐप मैसेज को पढ़कर सुनाया था। इससे किसी की भावनाएं आहत हुई हैं तो मुझे खेद है। यानि जयलाल और लेले की जोड़ी की धमकीशुदा मांग के अनुरूप ही बाबा रामदेव अपने ही बयान, अपनी ही बात से 23 तारीख की रात को ही मुकर चुका है।

उसी पत्र में रामदेव बाबा ने यह भी लिखा है कि कोरोना काल में भी एलोपैथी के डॉक्टर्स ने अपनी जान जोखिम में डाल कर करोड़ों लोगों की जान बचायी है। हम उसका सम्मान करते हैं। उसी पत्र में रामदेव बाबा ने यह भी लिखा और स्वीकारा है कि ऐलोपैथिक ने ही चेचक पोलियो टीबी आदि गम्भीर रोगों का उपचार खोजा है।
हिंदीभाषी प्रदेशों में अत्यधिक चर्चित और प्रचलित मुहावरे में अगर कहूं तो थूक कर चाट लेने का इससे बड़ा सार्वजनिक उदाहरण और क्या हो सकता है.?

लेकिन बात इससे आगे की कुछ और भी है, जिसने पूरा खेल गड़बड़ कर दिया। IMA की चिट्ठी मिलते ही स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने तत्काल कार्रवाई करते हुए रामदेव को अपना बयान वापस लेने के लिए कहा था। IMA और बाबा रामदेव, दोनों को ही इतनी त्वरित और तात्कालिक सरकारी प्रतिक्रिया की उम्मीद नहीं थी। स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन की उस चिट्ठी में छुपी कठोरता बहुत कुछ कह रही थी। बाबा रामदेव भलीभांति समझ गया था कि कोरोना के इस संवेदनशील दौर में देश के प्रधानमंत्री की कुर्सी पर ऐसा व्यक्ति बैठा हुआ है कि रामदेव बाबा की करतूत के खिलाफ इस माहौल में कुछ भी हो सकता है।

अतः रामदेव बाबा ने अपने बयान से तत्काल मुकर कर खुद को सुरक्षित रखने में ही भलाई समझी। हर्षवर्धन की चिट्ठी मिलने के तत्काल बाद ऐलोपैथी और ऐलोपैथिक डॉक्टरों पर अपना थूका चाट कर साफ देने में उसने कोई देर नहीं की। बाबा रामदेव के इस शत प्रतिशत समर्पण के बाद स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने आधिकारिक रूप से इस विवाद के खत्म हो जाने की घोषणा भी कर दी थी।

लेकिन जरा याद करिए, ध्यान दीजिए की IMA धूर्तों और बहुरूपिये बाबा रामदेव के बीच न्यूजचैनलों पर जमकर जूतमपैजार किस तारीख से हो रही है और क्यों हो रही है.? यह जूतमपैजार 24 मई को आजतक न्यूजचैनल पर IMA के धूर्तो और बहुरूपिये बाबा रामदेव के बीच हुई जूतमपैजार से शुरू हुई है।

लगभग हर न्यूजचैनल पर यह दोनों एक दूसरे से जूझ रहे हैं।जब बयान वापस लेने और माफी मांग लेने का काम बाबा रामदेव 23 मई को ही कर चुका है तो लेले और लाल की जोड़ी अब किस बात पर जूझ रही है.?

बाबा रामदेव जब 23 तारीख को ही लिखित रूप से अपना बयान वापस लेकर अपना माफीनामा सरकार को दे चुका है। तो उस IMA, जिसकी हैसियत एक NGO से अधिक कुछ नहीं। उसेबाबा रामदेव क्या और क्यों समझाने के लिए बवाल काट रहा है.?

मीडियाई मंथरा, न्यूजचैनलों पर IMA के धूर्तों और बहुरूपिये बाबा रामदेव का झगड़ा राष्ट्रीय समस्या क्यों बना हुआ है।दरअसल इस पूरे प्रायोजित बवाल का ठोस कारण है।ईसाई मिशनरियों के एजेंट जयलाल को इस बवाल से पहले देश में कोई नहीं जानता था। आज वो ईसाई मिशनरियों का राष्ट्रव्यापी पहचान वाला पोस्टर बॉय बन चुका है। इसके नतीजे में उस पर दौलत किस तरह बरसेगी, यह आसानी से समझा जा सकता है। उसका उल्लू सीधा हो चुका है।

आयुर्वेदिक उत्पादों के 85% बाजार में डाबर बैद्यनाथ इमामी के कब्जे के बाद शेष बचे 15% बाजार में “हाथ से मछली पकड़ने” की कोशिशों की तरह अपनी हिस्सेदारी के लिए दर्जन भर छोटी बड़ी अन्य कम्पनियों से जूझ रही बाबा रामदेव की कंपनी को इस दूसरी लहर के दौरान चर्चा में आने के लिए ऐसे ही किसी हथकंडे की बहुत सख्त जरूरत थी। जयलाल और लेले की जोड़ी के सहयोग से यह ड्रामा सुपरहिट रहा।

पहली लहर में दस लाख यूनिट प्रतिदिन की डिमांड तथा 100000 यूनिट प्रतिदिन की बिक्री के रामदेव के हवा हवाई दावे के ठीक विपरीत कोरोना की जबरदस्त पहली लहर के दौरान 139 करोड़ जन संख्या में 4 महीने में न्यूनतम 3 करोड़ किट की बिक्री की उम्मीद के बदले मात्र 25 लाख किट की बिक्री हुई थी। वैक्सीनेशन शुरू हो जाने के बाद इस दूसरी लहर में क्या दशा हुई है। यह आंकड़ा कुछ दिन बाद सामने आएगा। लेकिन रामदेव तो हकीकत जान ही रहा है।

तो यह है रामदेव बनाम IMA झंझट, बवाल, हुड़दंग का सच।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort