• Sun. May 22nd, 2022

जय श्री राधे कृष्णा रात्रि चिंतन

Byadmin

May 14, 2022

🙏🏾🎋🌾 जय श्रीकृष्ण 🌾🎋🙏🏾
‼️ !! जय श्री राधे कृष्णा !!‼️
🌷🌹🙏🌹🌷
🕉️जीवन मिलना भाग्य की बात है,
मृत्यु होना समय की बात है,
पर मृत्यु के बाद भी
लोगो के दिलो में जीवित रहना,
ये जिन्दगी में किये अच्छे कर्मो की बात है

सब्र और सहनशीलता

कोई कमजोरियां नहीं
होती है

ये तो अंदरुनी ताकत है

जो केवल मजबूत लोगों
में होती है🌹🙏

“सही कर्म” वह नहीं है ,
जिसके “परिणाम”
हमेशा सही हो….!

सही कर्म वह है ,
जिसका “उद्देश्य” कभी
गलत ना हो……..!!!!🌹🙏
*” शरणागति” *

अपने शरणागत जीव को प्रभु हर प्रकार के अनिष्ट से बचा लेते हैं। ऐसी बात भी नहीं है कि प्रभु आश्रित जीव के जीवन में कभी कोई कष्ट ही नहीं आता। सच बात तो ये है कि प्रभु आश्रित जीव धर्म पथ का अनुगमन करता है और जो धर्म पथ का अनुगमन करता है, उसकी राह कभी भी आसान नहीं होती।।

ये प्रभु शरणागति की महिमा ही है कि दुर्गम परिस्थितियों में भी शरणागत के मन में एक विश्वास और एक सकारात्मकता सदैव बनी रहती है और वो ये कि मेरे प्रभु मेरे साथ ही हैं फिर मैं चिंता क्यों करुं..? और उनका यह विश्वास ही उन्हें पाण्डवों की तरह बड़े से बड़े विघ्न से भी लड़ने का आत्मबल प्रदान कर देता है।।

खेलत बालक ब्याल संग, मेला पावक हाथ।
तुलसी सिसु पितु मातु ज्यों, राखत सिय रघुनाथ।।

*जिस प्रकार एक अबोध बालक निर्भय होकर सर्प के संग खेलने लग जाता है और अग्नि में भी हाथ डालने लग जाता है। वो नहीं जानता कि इसमें मेरा तनिक भी अहित होने वाला है। मगर उसके माता पिता अच्छे से जानते हैं कि किसमें उनके बालक का हित है और किसमें अहित।।
*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort