• Sun. Jun 26th, 2022

झाड़ू और लक्ष्मी

Byadmin

Apr 29, 2022

:-: झाड़ू और लक्ष्मी :-:

  • सूर्यकिरणों के प्रभाव के कारण,दिन की अपेक्षा, रात में बैक्टीरिया अधिक सक्रिय होते हैं, इसलिए सनातन में रात या संध्यासमय में झाड़ू लगाना यानि साफ सफ़ाई करना मना हैं।
  • झाड़ू लगाने से साफ सफ़ाई हो जाती हैं, जिससे घर से कचरा साफ होने से ,हानिकारक बैक्टीरिया भी बाहर हो जाते हैं, इसलिए जब सफ़ाई रहेगी,तो घरवालों का तन मन स्वस्थ रहेगा और जब तन मन स्वस्थ रहेगा तो,अपने आप ही घर में सुख समृद्धि,लक्ष्मी आएगी ,इसलिये झाड़ू को लक्ष्मी जी का प्रतीक कहते हैं।
  • झाड़ू में अरबों बैक्टीरिया लगे हो सकते हैं, इसलिए झाड़ू को हमेशा घर के कोने में रखने का प्रावधान हैं, जहाँ धूप हो।
  • महिलाओं की शारीरिक सरंचना के कारण,पुरुषों की अपेक्षा, महिलाओं में बेली फैट शीघ्र आता हैं, इसलिए झाड़ू पौछा लगाने में महिलाओं की कसरत होने से,बैली फैट कम रहता हैं, जिससे वह स्वस्थ रहे।
    सनातन जीवनशैली में सभी कार्य जीवों की शारिरिक व मानसिक स्वास्थ्य को ध्यान में रख कर निर्धारित किए गए,किसी को भी किसी कार्य का मना नहीं किया गया।विजय सत्य की ही होगी।

धन्यवाद :- बदला नहीं बदलाव चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort