• Tue. Jun 28th, 2022

देने वाला जब भी देता देता छप्पर फाड़ के

Byadmin

Oct 30, 2021

देने वाला जब भी देता देता छप्पर फाड़ के

एक बार एक राजा था, वह जब भी मंदिर जाता तो दो भिखारी मंदिर के दाएं और बाएं बैठे मिलते।

दाईं तरफ वाला कहता: “हे भगवान! तूने राजा को बहुत कुछ दिया है, कुछ मुझे भी दे दे।”

बाईं तरफ वाला कहता: “ऐ राजा! भगवान ने तुझे बहुत कुछ दिया है, मुझे भी कुछ दे दे।”दाईं तरफ वाला भिखारी बाईं तरफ वाले से कहता : “भगवान से माँग! बेशक वह सबसे बेहतर सुनने वाला है।”

बाईं तरफ वाला जवाब देता: “चुप कर बेवकूफ।”

एक बार राजा ने अपने वज़ीर को बुलाया और कहा कि मंदिर में दाईं तरफ जो भिखारी बैठता है वह हमेशा भगवान से मांगता है तो बेशक भगवान उसकी ज़रूर सुनेगा, लेकिन जो बाईं तरफ बैठता है वह हमेशा मुझसे फ़रियाद करता रहता है, तो तुम ऐसा करो कि एक बड़े से बर्तन में खीर भर के उसमें अशर्फियाँ डाल दो और वह उसको दे आओ।

वज़ीर ने ऐसा ही किया।अब वह भिखारी मज़े से खीर खाते – खाते दूसरे भिखारी को चिढ़ाता हुआ बोला: “हुंह… बड़ा आया ‘भगवान देगा… वाला। यह देख राजा से माँगा, मिल गया ना?”

खाने के बाद जब उसका पेट भर गया तो उसने खीर से भरा बर्तन उस दूसरे भिखारी को दे दिया और कहा: “ले पकड़… तू भी खाले, बेवकूफ।अगले दिन जब राजा आया तो देखा कि बाईं तरफ वाला भिखारी तो आज भी वैसे ही बैठा है लेकिन दाईं तरफ वाला गायब है।

राजा नें चौंक कर उससे पूछा: “क्या तुझे खीर से भरा बर्तन नहीं मिला?”

भिखारी : “जी मिला ना बादशाह सलामत, क्या लज़ीज़ खीर थी, मैंने ख़ूब पेट भर कर खायी।”राजा: “फिर?”

भिखारी : “फिर वह जो दूसरा भिखारी यहाँ बैठता है मैंने उसको दे दी, बेवकूफ हमेशा कहता रहता है, ‘भगवान देगा, भगवान देगा।

राजा मुस्कुरा कर बोला: “बेशक, भगवान ने उसे दे दिया।”

*🙏जय श्री  सीताराम जी🙏*

🖊️श्री राम कथा से🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort