• Wed. May 25th, 2022

बीजेपी का रामराज्य और आरक्षण काण्ड:–ज्वलन्त मुद्दा-आरक्षण का 50% से भी ज्यादा क्यों??:——-

Byadmin

Mar 28, 2021

बीजेपी का रामराज्य और आरक्षण काण्ड:–ज्वलन्त मुद्दा-आरक्षण का 50% से भी ज्यादा क्यों??:————–मजबूर और मजबूत में ज्यादा कोई फर्क नही हैl हम स्वार्थी मनुष्य से दोस्ती करते है तो वो आपको मजबूर बना देगा,और सच्चे मनुष्य से दोस्ती करते है तो वो आपको मजबूत ही बनाएगा रिश्ता भले ही कोई भी हो मजबूर नहीं मजबूत होना चाहिये?? उच्च जातियों ने ही बीजेपी को शून्य से शिखर तक पहुंचाया है??2 से 200+तक!!क्या अब यही हमारी पसन्द और आदत ही हमारे अस्तित्व के विनाश का कारण बनेगी??
✍️आरक्षण पर बीजेपी के अबतक के कांडों के कारनामे:–भाजपा तीन बार सत्ता में आई तो केवल अपने मूल जनाधार सवर्ण जातियों को बर्बाद करने की पटकथा लेखन कर डाला।
(1काण्ड):—वीपी सिंह और अटल बिहारी बाजपेई ने ओबीसी आरक्षण लागूकिया।
(2काण्ड):—अटलबिहारी बाजपेई ने प्रमोशन में आरक्षण लागू किया।
(3काण्ड):—अटल बिहारी बाजपेई ने एससी-एसटी वर्ग के लोगों के लिए शून्य अंकों के नीचे भी नौकरियां रेवड़ियों की तरह बांटने का नामुराद कानून बना डाला।
(4काण्ड):—अटल बिहारी बाजपेई ने पंचायत चुनाव में आरक्षण लागू कर सवर्ण जातियों के लोगों को चुनाव लडने से भी वंचित कर डाला।
(5काण्ड):—अटल बिहारी बाजपेई ने एससी-एसटी वर्ग आरक्षण को जाति प्रतिशत के आधार पर बढ़ाने का कानून बनाया।
(6काण्ड):–अटल बिहारी बाजपेई ने आरक्षण को बिना किसी समीक्षा के दस साल के लिए बढ़ाया।
(7काण्ड या अध्याय):–अटल बिहारी बाजपेई ने सुप्रीम कोर्ट के आरक्षण समाप्त करने के आदेश को संविधान संशोधन कर पलट दिया।

(8वा कांड):—मोदी सरकार ने एससी-एसटी एक्ट में बिना किसी मांग बिना किसी आंदोलन के 22 और नामुराद कानून जोड़कर बिना जांच बिना चिकित्सीय परीक्ष बिना किसी गवाही के जेल भेज दिए जाने का जघन्यतम कानून बना कर आठ लाख पच्चीस हजार रुपए लूटने की योजना बनाई!
(9वा काण्ड):—-मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले 13 प्वाइंट रोस्टर प्रणाली को संविधान संशोधन कर पलट डाला।
(10काण्ड):–मोदी सरकार ने आरक्षण को बिना किसी समीक्षा के दस साल के लिए बढ़ाया।
(11काण्ड):– 50%से आरक्षण बढ़ाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सबसे पूछा सभी ने 50%से ज्यादा आरक्षण को बढ़ाने की सहमति जताई है
(12काण्ड):–अब तो आरक्षण को नौवीं अनुसूची में शामिल करने का षड्यंत्र रचा जा रहा है।
(13वा काण्ड):–बीजेपी नीति का विरोध अब उच्च जातियों के लिये अंतिम अध्याय ही बचा है?? भारत के सवर्ण जातियों के लोगों के संविधान के मौलिक अधिकारों में वर्णित सभी के समानता का अधिकार छीन लिया गया है।
भारत के सवर्ण जातियों के लोगों के साथ भेदभावपूर्ण रवैया अपनाया जाता है।
सवर्ण समाज को अपने अस्तित्व को बचाने के लिए तैयार रहना होगा।
सवर्ण समाज एकजुट होकर ही सवर्ण विरोधी मानसिकता के नेतृत्व से मुकाबला कर सकते हैं अन्यथा सवर्ण जातियों के लोगों का पतन निश्चित है।
भाजपा आरक्षण को 9वी अनुसूची में शामिल करने जा रही है। इसके बाद आरक्षण मौलिक अधिकार बन जाएगा!!
सपा बसपा कांग्रेस बीजेपी सारे एक जैसे हैं आरक्षण SC ST act के मुद्दे पर कोई पार्टी विरोध नहीं करती है इस लिए!!✍️✍️ जयहिंद जय भारत भूमि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort