• Wed. May 25th, 2022

बीहड़ों के विकास के लिये संभावनाओं को तलाशने के लिये दिल्ली से आया दल

Byadmin

Jun 15, 2021

बीहड़ों के विकास के लिये संभावनाओं को तलाशने के लिये दिल्ली से आया दल
केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री तोमर के विशेष प्रयासों से संयुक्त सचिव व वैज्ञानिकों ने विकास की संभावनाओं को तलाशा
भारत सरकार के संयुक्त सचिव ने जौरा व मुरैना विकासखण्ड के बीहड़ क्षेत्र का किया भ्रमण
मुरैना 15 जून 2021/ चंबल क्षेत्र में चंबल अटल प्रोग्रेस-वे और चंबल नदी के बीच में बीहड़ भूमि पर हाईब्रिड बीज तैयार किया जायेगा। इसके लिये केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर की विशेष पहल पर भारत सरकार कृषि मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री अश्वनी कुमार और वैज्ञानिकों की टीम ने मुरैना पहुंचकर बीहड़ों के विकास की संभावनाओं को तलाशा, जिसमें राष्ट्रीय बीज विकास की योजनायें बनेगी। संयुक्त सचिव एवं वैज्ञानिकों ने मंगलवार को जौरा विकासखण्ड के ग्राम छिनवरा और मुरैना विकासखण्ड के ग्राम पिपरई के समीप स्थल का मुआयना किया। इस अवसर पर कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन, संयुक्त कलेक्टर श्री संजीव कुमार जैन, बीज निगम के आरएम श्री गुलावीर सिंह, एसडीएम जौरा श्री सुरेश बराहदिया, जौरा तहसीलदार सुश्री कल्पना शर्मा, मुरैना एसडीएम और संबंधित क्षेत्र के पटवारी मौजूद थे।
भारत सरकार कृषि मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री अश्वनी कुमार ने कहा कि चंबल केे बीहड़ों के विकास के लिये संभावनाओं को तलाशा जा रहा है। जिसमें राष्ट्रीय बीज विकास की योजनाओं को विकसित किया जायेगा। इसके लिये ग्राम छिनवरा और पिपरई के समीप स्थल को तलाशा। मैप को कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन द्वारा संयुक्त सचिव को अवलोकन कराया। इस अवसर पर संबंधित एसडीएम द्वारा खसरा नंबर भी अवलोकन कराये।

ग्रीष्म कालीन मंूग फसल के पंजीयन की अन्तिम तिथि आज
मुरैना जिले में बनाये गये 7 पंजीयन केन्द्र
मुरैना 15 जून 2021/ मध्यप्रदेश शासन किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के आदेशानुसार ग्रीष्म कालीन मूंग फसल के पंजीयन का कार्य 16 जून 2021 तक किया जायेगा। इसके लिये कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने जिले में 7 पंजीयन केन्द्र बनाये है। जिनके लिये एक-एक नोडल अधिकारी भी आरईओ स्तर का नियुक्त किया गया है।
जानकारी में बताया गया है कि अम्बाह विकासखण्ड के विपणन सहकारी समिति अम्बाह में कृषि उपज मंडी प्रांगण में, पोरसा में विपणन सहकारी समिति द्वारा कृषि उपज मंडी पोरसा, मुरैना में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति दीखतपुरा द्वारा कृषि उपज मंडी मुरैना, जौरा में विपणन सहकारी समिति द्वारा कृषि उपज मंडी जौरा में, पहाडगढ़ में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति कृषि उपज मंडी पहाडगढ़ में, कैलारस में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समिति कैलारस उपज मंडी में और सबलगढ़ में विपणन सहकारी समिति द्वारा कृषि उपज मंडी सबलगढ़ में पंजीयन कार्य किया जायेगा। इसके लिये प्रत्येक केन्द्र पर एक-एक नोडल अधिकारी नियुक्त किये है।
जिसमें अम्बाह के लिये श्री राकेश शर्मा का मोबाइल नंबर 9907470660, पोरसा के लिये श्री राजेन्द्र सिंह भदौरिया का मोबाइल नंबर 9826802352, मुरैना के लिये श्री प्रेम सिंह खन्ना का मोबइल नंबर 9826240714, जौरा के लिये श्री एमएन शुक्ला का मोबाइल नंबर 9826553424, पहाडगढ़ के लिये श्री आरएस जादौन का मोबाइल नंबर 9977975001, कैलारस के लिये श्री मोहनलाल शर्मा का मोबाइल नंबर 9826397009 और सबलगढ़ के लिये श्री अशोक मेहकाले का मोबाइल नंबर 9630061456 पर संपर्क किया जा सकता है।

संभाग आयुक्त ने की गूगल मीट के जरिए जल जीवन मिशन की समीक्षा
दिए निर्देश नल-जल योजनाओं के रख-रखाव की पुख्ता व्यवस्था बनाएं
मुरैना 15 जून 2021/जल जीवन मिशन के तहत शहर की तर्ज पर गाँवों में भी घर-घर नल से पेयजल उपलब्ध कराने के लिये प्रदेश सरकार द्वारा गाँव-गाँव में नई नल-जल योजनायें मूर्त रूप दी जा रही हैं। साथ ही हर स्कूल व आंगनबाड़ी में भी नल से पानी पहुँचाने का इंतजाम हो रहा है। ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिला कलेक्टर विशेष दल गठित कर इन कामों की जांच कराएं, जिससे पूरी गुणवत्ता के साथ पेयजल संबंधी काम पूरे हो सकें। यह बात संभाग आयुक्त श्री आशीष सक्सेना ने गूगल मीट के जरिए हुई जल जीवन मिशन की समीक्षा बैठक में ग्वालियर एवं चंबल संभाग के सभी जिला कलेक्टर से कही।
संभाग आयुक्त श्री सक्सेना ने कहा कि निर्माणाधीन ग्रामीण नल-जल योजनाओं का रख-रखाव तीन महीने तक लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा कराया जाएगा। इसके बाद यह जिम्मेदारी ग्राम पंचायतों को निभानी है। इसलिये हर पंचायत में जल कर वसूली सहित जनभागीदारी योजना के समन्वय से नल-जल योजनाओं का संधारण कराने के लिये पुख्ता व्यवस्था बनाई जाए। श्री सक्सेना ने इस अवसर पर दोनों संभागों के सभी जिलों में हैण्डपम्पों के सतत संधारण पर भी विशेष बल दिया।
संभावित बाढ़ वाले क्षेत्रों में बचाव के पुख्ता इंतजाम रहें
संभाग आयुक्त श्री आशीष सक्सेना ने गूगल मीट के जरिए हुई जल संसाधन विभाग की संभाग स्तरीय निगरानी समिति की बैठक में ग्वालियर-चंबल संभाग के सभी जिला कलेक्टर्स से कहा कि पूर्व वर्षों के अनुभवों के आधार पर संभावित बाढ़ वाले क्षेत्रों में एहतियात बतौर सुरक्षा, बचाव व राहत के पुख्ता इंतजाम रहें। साथ ही ऐसे स्थान भी पहले से ही चिन्हित कर लें जहां लोगों को जरूरत पड़ने पर अस्थायी तौर पर विस्थापित किया जा सके। बैठक में संभाग आयुक्त श्री सक्सेना ने कहा कि संभावित बाढ़ प्रभावित गाँवों में गर्भवती माताओं की शिफ्टिंग पहले से ही कर लें। साथ ही हर गांव में जीवन रक्षक दवाओं का पर्याप्त भण्डारण रहे। उन्होंने ऐसे गाँवों में शतप्रतिशत कोरोना टीकाकरण कराने पर भी विशेष बल दिया।
जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता सहित अन्य संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि बड़े जलाशयों के साथ-साथ विभिन्न विभागों के छोटे तालाबों को भी सूचीबद्ध करें और बरसात के दौरान उनकी निगरानी भी रखी जाए। साथ ही कहा कि बरसात के दौरान वॉट्सएप ग्रुप बनाकर जलाशयों की जानकारी लगातार साझा करते रहें।
पुलिस महानिरीक्षक श्री अविनाश शर्मा ने जल संसाधन विभाग के अधिकारियों से कहा कि आपदा प्रबंधन में कम्युनिकेशन का विशेष महत्व है। इसलिए जलाशयों के जल स्तर के साथ-साथ पानी छोड़ने की सूचना पुलिस को भी समय से दी जाए।
कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिये हर संभव उपाय किए जाएं
संभाग आयुक्त श्री आशीष सक्सेना ने गूगल मीट में संभाग के सभी जिला कलेक्टर को निर्देश दिए कि वैश्विक महामारी कोरोना की तीसरी लहर रोकने के लिये राज्य शासन द्वारा दिए गए सभी दिशा-निर्देशों पर प्रभावी एंग से अमल करें। उन्होंने कहा कि सभी जिलों में निर्धारित लक्ष्य के अनुसार सेम्पल लेकर कोरोना की जांच की जाए। साथ ही किल कोरोना अभियान को प्रभावी ढंग से अंजाम दें। जिसके तहत घर दृ घर सर्वे का काम किया जाए और सर्दी, खांसी, जुकाम के मरीजों के सेम्पल लें। साथ ही उनके संपर्क में आए लोगों को चिन्हित कर सभी की कोरोना जांच कराई जाए। इसी तरह सकरे बाजारों के दुकानदारों व वहां आने वाले ग्राहकों की सेम्पलिंग का काम भी विशेष प्राथमिकता से हो। श्री सक्सेना ने पुख्ता रणनीति के तहत कोरोना टीकाकरण अभियान चलाने और तीसरी लहर को ध्यान में रखकर सभी जिलों में अतिरिक्त आईसीयू वार्ड, पीडियाट्रिक वार्ड आदि की व्यवस्था भी जल्द से जल्द मुकम्मल करें। साथ ही विशेष रूप से पीडियाट्रिक चिकित्सकों को ट्रेनिंग भी दिलाई जाए।

मुरैना पुलिस की कार्रवाई, 3 करोड़ के गांजे के साथ 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार
मुरैना 15 जून 2021/लॉकडाउन में 2 व्यक्तियों द्वारा गांजे की तस्करी की जा रही थी, जिन्हें पुलिस ने धर दबोचा। आरोपियों के पास से करीब 3 करोड़ का गांजा पुलिस ने जब्त किया है।
प्रदेश में फैली कोरोना महामारी के बीच भी लोग आपदा में अवसर ढूंढ रहे हैं। लेकिन पुलिस भी अपना कार्य सघनता से कर रही है, जिसके चलते ऐसे लोगों के इरादे पूरे नहीं हो पाते। जहां पर लॉकडाउन में 2 व्यक्तियों द्वारा गांजे की तस्करी की जा रही थी, जिन्हें पुलिस ने धर दबोचा। आरोपियों के पास से करीब 3 करोड़ का गांजा पुलिस ने जब्त किया है।
पुलिस अधीक्षक श्री ललित शाक्यवार को मुखबिर द्वारा सूचना मिली कि एक ट्रक ग्वालियर से आगरा की तरफ जा रहा है। जिसमें अवैध गांजा भरा हुआ है। पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में बानमौर एसडीओपी ने संपूर्ण कार्रवाई करते हुए थाने के सामने एबी रोड़ पर दोनों तरफ वाहन चेकिंग पॉइंट लगाए। जहां कार्रवाई की तो ग्वालियर की तरफ से मुखबिर द्वारा बताए गए ट्रक नंबर रोकने का प्रयास किया। जिसके बाद तीन आरोपी ट्रक छोड़ कर अंधेरे का फायदा उठाकर भाग गए। लेकिन पुलिस ने ट्रक में बैठे दो आरोपियों को धर दबोचा। जिसके बाद पुलिस ने पूछताछ की तो उन्होंने अपना पता चिला चैन्द मठ थाना बाड़ी जिला धौलपुर राजस्थान का होना बताया है। आरोपी ट्रक के अंदर रखी कागजों की स्टेशनरी के पैकेटों के नीचे गांजा भरकर ले जा रहे थे। ट्रक की तलाशी लेने पर करीब 13 क्विंटल 50 ग्राम किलोग्राम गांजा बरामद किया गया। जिसकी कीमत 3 करोड़ रूपये से अधिक बताई गई है। बरामद 880 पैकेट स्टेशनरी की कीमत करीब 15 लाख रुपए बताई जा रही है। वहीं कुल कीमत करीब 2 करोड़ 95 लाख 90 हजार रुपए है। पकड़े गए आरोपियों ने बताया कि कई सालों से अवैध गांजे की तस्करी कर रहे हैं। इन तस्करों का एक रैकेट उड़ीसा के थाना गोरखपुर के क्षेत्र में रहता हैं। जो गांजे की तस्करी करते हैं। वहां से छोटी मोटी डिलीवरी बने सामान को दिल्ली, हरियाणा की तरफ बेचते हैं। अवैध गांजे को लेकर चलने वाले ट्रकों के आगे पीछे रेकी करने वाली चार पहिया वाहन भी चलते हैं। इस अवैध तस्करी में कई लोग शामिल हैं। जो इस तरह की करतूतों को अंजाम देते है।

मलेरिया से रहें सतर्क – कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन
मुरैना 15 जून 2021/वर्षा ऋतु के आगमन के साथ मच्छर जनित रोग मलेरिया की भी संभावनाएँ होने लगी हैं। कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है। कलेक्टर ने बताया कि मलेरिया परजीवी का संक्रमण संक्रमित मादा एनाफिलीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर रुके हुए साफ पानी में पैदा होता है, अतः घर के आस-पास कहीं भी खुले स्थान पर पानी एकत्रित न होने दें।
उन्होंने कहा कि हर सप्ताह कूलर, पानी की टंकी आदि को खाली कर सफाई करें। ऐसे स्थान जहाँ पानी की निकासी संभव न हो और अनावश्यक जल भराव हो वहाँ केरोसिन या जला हुआ तेल डालें। मच्छरदानी लगाकर सोएं। खिडकियों और दरवाजों पर मच्छरों को रोकने के लिये जाली लगायें। पूरी बाँह के कपड़े पहनें। मलेरिया के लक्षणों में ठंड लगकर तेज बुखार आना, पसीना आकर बुखार उतर जाना, रुक-रुक कर बुखार आना, सिर दर्द और उल्टी होना तथा बैचेनी, कमजोरी, सुस्ती महसूस होना शामिल है। मलेरिया के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल शासकीय स्वास्थ्य संस्था अथवा आशा कार्यकर्ता से संपर्क कर खून की जाँच करायें।

चंबल नदी में हो रहे अवैध उत्खनन पर वन विभाग की कार्रवाई, एक आरोपी गिरफ्तार
मुरैना 15 जून 2021/सोमवार और मंगलवार को भी चंबल नदी से अवैध रेत ले जा रहे ट्रकों को पकड़ा गया। जिसे राजसात की कार्रवाई के लिए थाने में सुपुर्द कर दिया है। अवैध रेत माफिया पर अंकुश लगाने के लिए वन विभाग हर संभव प्रयास कर रहा है। देवरी चंबल अभियान की एसडीओ श्रद्धा पांढरे ने भी ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए माफियाओं के खिलाफ नकेल कस दी है। इसी के चलते सोमवार और मंगलवार को भी चंबल नदी से अवैध रेत ले जा रहे ट्रकों को पकड़ा गया। जिसे राजसात की कार्रवाई के लिए थाने में सुपुर्द कर दिया है।
जानकारी के अनुसार मुरैना जिले में की गई ताबड़तोड़ कार्रवाई में 1 माह में करीब 20 ट्रैक्टर-ट्रॉली और दो ट्रकों को जब्त कर राजसात की कार्रवाई की है। इसके साथ ही कुछ दिन पहले चिंनोनि थाना क्षेत्र में रखी लाखों रुपए की डंप रेत को नष्ट करने की कार्यवाही भी की गई थी। इसके बाद सोमवार को मुखबिर की सूचना से चंबल नदी से ट्रक में रेत भरकर मुरैना से धौलपुर की तरफ जा रहा था। तभी ट्रक का पीछा करते हुए मनिया थाने के पास पकड़कर थाने में राजसात की कार्रवाई के लिए सुपुर्द कर दिया। जिसमें एक आरोपी मौके का फायदा उठाकर भाग गया। और दूसरे आरोपी को वन विभाग की टीम ने पकड़ कर जेल भेज दिया है।
वहीं मंगलवार को भी चंबल नदी में जेसीबी मशीन द्वारा अवैध रेत का उत्खनन कर ट्रैक्टर-ट्रॉली में भरा जा रहा था। मुखबिर की सूचना से एसडीओ श्रद्धा पांढरे ने मय टीम के साथ चंबल नदी में दबिश दी तो रेत माफियाओं में खलबली मच गई। और ट्रैक्टर-ट्रॉली लेकर भाग गए। उसके बाद जेसीबी मशीन का पीछा किया तो मसूदपुर गांव के पास ड्राइवर जेसीबी मशीन को छोड़कर भाग गया। जिसके बाद वन विभाग की टीम ने जेसीबी मशीन को कब्जे में लेकर वन डिपो में राजसात की कार्रवाई के लिए रख दिया है।

आज विद्युत सप्लाई बंद रहेगी
मुरैना 15 जून 2021/ मध्यप्रदेश मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी लि. के उपमहाप्रबंधक ने बताया कि 11 केव्ही लाइनों का प्री. मानसून मैन्टेंनेशन एवं प्रोजेक्ट कार्य होेने के कारण 17 जून 2021 को सुबह 8 से दोपहर 12 बजे तक 11 केव्ही धौलपुर फीडर से संबंधित उपभोक्ताओं की विद्युत सप्लाई बंद रहेगी।

चंबल संभाग में 3 लाख 71 हजार 46 हेक्टेयर द्विफसली क्षेत्र
मुरैना 15 जून 2021/ चंबल संभाग में 3 लाख 71 हजार 46 हेक्टेयर द्विफसली क्षेत्र है। इस क्षेत्र में सालभर में दो फसलें ली जाती है।
मुरैना जिले में 2 लाख 23 हजार 55 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में दो फसलें ली जाती है। इसी प्रकार भिण्ड जिले में 1 लाख 53 हजार हेक्टेयर क्षेत्र मेें और श्योपुर जिले में 1 लाख 57 हजार 47 हेक्टेयर क्षेत्र में दो फसलें किसान ले रहा है।

आज से मछली मारने, उसके विक्रय परिवहन पर लगा प्रतिबंध
मुरैना 15 जून 2021/ म.प्र. नदीय नियम 1972 के नियम 3’ 34 धारा (2) के अंतर्गत 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्य प्रजनन काल की अवधि होने के कारण इस बंद ऋतु के दौरान मछली मारने, क्रय करने या इन्हें बेचने या पकड़ने या बेचने की चेष्टा करने, परिवहन करने या परिवहन का प्रयास करने पर प्रतिबंध रहेगा। इस प्रतिबंध का उल्लंघन किए जाने पर एक वर्ष तक के कारावास या 5 हजार रुपये तक के जुर्माने या दोनों दण्ड दिए जा सकेंगे।
जानकारी देते हुए कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने बताया कि छोटे तालाब व अन्य स्त्रोत जिनका कोई संबंध किसी नदी से नहीं है और जिन्हें निर्दिष्ट जल की परिभाषा के अंतर्गत नहीं लिया गया है, के लिए उक्त नियम लागू नहीं होगा।
यह वैज्ञानिक व्यवस्था मछली का प्रजनन काल होने से वंशवृद्धि को ध्यान में रखकर बंद ऋतु काल घोषित किया गया है। जिसका कड़ाई से पालन किया जाकर अवैघ मत्स्याखोट पर पूर्ण नियंत्रण रखा जावे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort