• Tue. Jun 28th, 2022

भगवानों की चोरी

Byadmin

Oct 25, 2021

:-: भगवानों की चोरी :-:
स्वयं को नास्तिक और 33 कोटि देवताओं का मज़ाक उड़ाने वाले बिहार में क्या कर रहें हैं पढ़िये :-
बिहार की मोक्ष नगरी गया और नालंदा को अपना बताने के लिए,तेलिया मसान,ब्रह्मांड बाबा,भैरों बाबा,कुरकीहार,विष्णु भगवान,बजरंगबली,गया में महाभारत के समय की पांडवो की मूर्तियो को,जैसे अनेकों हिंदू देवी देवताओं को,जो वहाँ रहने वाले ग्रामीणों के कुल देवी देवता भी हैं,महाबोधि मंदिर मुक्ति आंदोलन जैसी समितियां बनाकर,यह प्रमाणित करने का प्रयास किया जा रहा हैं कि यह सभी मूर्तियां गौतम बुद्ध की हैं।जेएनयू जैसे संस्थानों के डॉ. वाई. एस अलोने जैसे और इतिहासविदों की सहायता से,इसे हिंदू साम्राज्यवाद और हिंदुओं द्वारा बौध्द सम्प्रदाय का हिंदूकरण करने जैसी बातें करके,भोले भाले भारतीयों को भृमित किया जा रहा हैं।जब आप नास्तिक हैं, मूर्तिपूजा को पाखंड बताते हैं, पूजापाठ,व्रत अनुष्ठान को ढकोसला बताते हैं, तो फिर आपको बुद्ध की मूर्ति बनाकर,उनका पूजापाठ क्यों करना हैं??अगर कोई काम हिंदू करें तो वह अंधविश्वास हैं, और आप करो तो ,क्या फ़िर वह विज्ञान हो जाता हैं।इस तरह के काम करने में कोई समस्या न हो,क्या इसलिये अभी तक बिहार को पिछड़ा राज्य बनाया हुआ हैं ??अगर भारत में ही बौद्ध सम्प्रदाय का जन्म हुआ,तो यह भारत में ही कैसे नष्ट हो गया,इस बात का उत्तर,देश के नीति निर्माताओं से मांगिये,आपको आपके सभी प्रश्नों के उत्तर मिल जाएंगे ?? कृपया सक्षम बिहारी लोग ,इस तरफ ध्यान दें।एक दिन विजय सत्य की ही होगी।

धन्यवाद :- बदला नहीं बदलाव चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort