• Sun. May 29th, 2022

भारत देश को माता कहकर क्यों पुकारा जाता है

Byadmin

Jan 6, 2022
  • भारत देश को माता कहकर क्यों पुकारा जाता है *

इस पूरे विश्व के अंदर कितने सारे देश है लेकिन किसी भी देश के आगे माता नही लगाया जाता और हमारे भारत देश को हम सभी बड़े प्रेम से अधिकार से भारत माता कहकर पुकारते हैं। ऐसा क्यों है ? जबकि सभी देश वहां के रहने वालों की मातृभूमि ही है लेकिन फिर भी कभी नही सुना अमेरिका माता, इंग्लैंड माता या पाकिस्तान माता। सन्त जन कहते हैं कि भारत देश को माता इसलिए पुकारा जाता है क्योंकि भारत माता के गर्भ से स्वयं भगवान जन्म लेते हैं भारत माता ही भगवान को जन्म देती है और कही भी भगवान जन्म नही लेते। भगवान के दूत पैगम्बर पैगाम लाने वाले आते हैं कई संत जन पैदा हुए और वो सन्देश वाहक हुए, भगवान नही और या तो फिर कहीं पर भगवान का पुत्र आता है यीशु मसीह भगवान का पुत्र है भगवान नहीं है। पूर्ण ब्रह्म परमेश्वर केवल और केवल इस भारत की भूमि पर ही राम और कृष्ण के रूप में अवतार लेते हैं और जिस पावन धरती पर भगवान स्वयं बालक बनकर, पुत्र बनकर खेलने आते हैं वह दिव्य भारत भूमि ही माता कहलाने योग्य है इसलिए भारत माता है क्योंकि साक्षात भगवान की माँ है, जननी है। और भगवान जब जब इस भारत भूमि पर संकट आता है तब तब आते हैं स्वयं कहा है भगवान ने गीता जी में कि जब जब इस धरती पर पाप बढेगा और पुण्य क्षीण होंगे गौ, ब्राह्मण, सन्त संकट में आएंगे तब तब मैं आऊंगा धरती को पाप मुक्त करने लेकिन आऊंगा केवल अपनी भारत माता की कोख से क्योंकि सभी धर्मो का मूल, जड़ जो है वह सत्य सनातन धर्म है और सत्य सनातन धर्म की भूमि यही भारत भूमि है। इसलिए भगवान धर्म की रक्षा हेतु भारत मे ही प्रकट होते हैं। एक बार अकबर ने बीरबल से पूँछा कि बीरबल ये बताओ कि तुम्हारे भगवान को और कोई काम नही है जब देखो अवतार लेकर आता रहता है हमारा खुदा तो कभी एक ही बार आता है उत्तर दो ऐसा क्यों है ? बीरबल ने कहा महाराज सही समय आने पर आपके इस प्रश्न का उत्तर दूंगा अभी नही दूंगा। अकबर ने कहा कोई बात नहीं लेकिन देना जरूर बीरबल बहुत चतुर और बुद्धिमान थे जानते थे कि शब्दो से उत्तर दूंगा तो तर्क से महाराज शब्द काट देंगे और तर्क पर तर्क करते रहेंगे इससे अच्छा क्रिया द्वारा इस प्रश्न का उत्तर दूँ तो बादशाह सही समझ जाएंगे एक ही बार में। बीरबल ने एक दिन अकबर से कहा महाराज आज नौका विहार के लिए चलते हैं अकबर ने कहा हाँ हाँ चलो चलते है। बीरबल ने कहा शहजादे सलीम को भी ले चलते हैं सलीम उस समय गोद के बालक थे। अकबर ने कहा सलीम बहुत छोटे हैं वे वहां क्या करेंगे बीरबल ने कहा ताजी हवा लगेगी शहजादे को ले चलते है महाराज। बहुत कहने पर अकबर मान गए एक दासी की गोद मे सलीम को दे दिया और अकबर बीरबल और वह दासी तीनो नौका में विहार को चल दिये जब ठीक बीचो बीच यमुना के नौका गयी तो बीरबल ने दासी की गोद से सलीम को लेकर यमुना में फेंक दिया देखते ही अकबर चिल्लाया ये क्या किया तुमने और किसी भी सैनिक को आवाज लगाए बिना ही अकबर झट से यमुना में कूदे सलीम को बचाने के लिए सलीम हाथ भी आ गए। लेकिन ये क्या देखते हैं अकबर कि सलीम नहीं एक गुड्डा है वहां सलीम की जगह। क्योंकि बीरबल ने पहले ही यह योजना बना ली थी दासी को सब समझा दिया था। अकबर जब किनारे आये तो पूँछा बीरबल से कि ये सब क्या है 🤔 तब बीरबल ने कहा ये आपके उस दिन के प्रश्न का उत्तर है महाराज जो आपने पूँछा था। कि तुम्हारा भगवान बार बार अवतार क्यों लेता है ? जैसे आप अपने पुत्र को संकट में देख कर स्वयं कूद पड़े यमुना में बिना किसी सैनिक को आवाज लगाए क्योंकि आप पिता हो आपको चिंता थी कि कोई उस प्रकार से रक्षा नही कर पायेगा मेरे पुत्र की जिस प्रकार आप स्वयं करोगे। ठीक इसी प्रकार से जब भी भक्तों पर संकट आता है भारत भूमि पाप से भारी होती है तब हमारे भगवान भी किसी अन्य को नही भेजते रक्षा हेतु स्वयं ही आते हैं और बार बार आते हैं। अब अकबर को अपने प्रश्न का उत्तर ठीक प्रकार से मिल गया। उन्होंने बीरबल को कहा धन्य है तुम्हारा परमात्मा बीरबल हम उन्हें नमन करते हैंं 🙏 इसलिए गोस्वामी जी ने मानस में कहा
कि जब जब होय धर्म कै हानि, बाड़े असुर अधम अभिमानी
तब तब प्रभु धरि विविध सरीरा, हरे कृपा निधि सज्जन पीरा
और केवल इस भारत की भूमि पर ही जहां भगवान के निजी जन सन्त होते हैं वही भगवान भी प्रकट होते हैं भारत माता के गर्भ से धन्य है
भारत भूमि जो जननी है परब्रह्म परमेश्वर की 🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort