• Sat. Jun 25th, 2022

मनुवाद vs लोकतंत्र

Byadmin

Jun 11, 2022

:-: मनुवाद vs लोकतंत्र :-:

यजुर्वेद सप्तदश(17) वे अध्याय के अनुसार:-
:-
अमीषा चित्त प्रतिलोभयन्ती गृहाणङ्गन्यप्वे परेहि।
अभि प्रेहि निर्दह ह्रत्सु शौक़ईरंधेनामित्रास्तमसा सचन्ताम।
अवसृष्टा परापत शरवये ब्रह्मशीते।
गच्छामित्राण प्रपद्यस्व मामिषाम कंचनोच्छष:।
अर्थ:- सभापति जिस तरह से शूरवीर पुरुषों की सेना को स्वीकार करता है, उसी प्रकार से शूरवीर स्त्रियों की भी सेना को स्वीकार करें ।
युद्धविद्या की शिक्षा महिला और पुरुष दोनों को मिलनी चाहिये ,जैसे वीर पुरुष युद्ध करे वैसे वीर स्त्री भी युद्ध करें। देश की सेना में महिला और पुरुष दोनों की टुकड़ियां हो और पुरुष के समान ही महिला सेनापति भी हो।
लोकतंत्र में महिलाओं को सैनिक स्कूल में प्रवेश का अधिकार 2022 में मिला,जबकि मनुवादी व्यवस्था में ,तो महिलाओं को यह अधिकार लाखों वर्ष पूर्व ही मिल गया था।कैकयी से लेकर कमलापति तक हज़ारों प्रमाण हैं, इस बात के। विजय सत्य की ही होगी।

धन्यवाद :-बदला नहीं बदलाव चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort