• Sun. May 22nd, 2022

स्वदेशी संविधान

Byadmin

May 14, 2022

:-: स्वदेशी संविधान :-:
सितंबर 2021 में भारत के वर्तमान मुख्य न्यायाधीश ने स्वयं कहा हैं कि भारत की वर्तमान व्यवस्था का भारतीयकरण करना आवश्यक हैं मतलब की भारत की वर्तमान व्यवस्था पश्चिमी संस्कृति पर आधारित व अनुकूल हैं।जब व्यवस्था का भारतीयकरण ही नहीं हुआ था तो हमें क्यों पढ़ाया व बताया गया कि 1950 में भारतीय व्यवस्था लागू हुई ???? अंग्रेजी के कारण 3 करोड़ से अधिक मुकदमें अदालतों में लंबित हैं।जब हम मेक इन इंडिया या स्वदेशी भारत के लिए प्रयासरत हैं तो स्वदेशी संविधान के लिए एकस्वर में एकजुट क्यों नहीं होते ?? जब मुख्य न्यायधीश ही व्यवस्था परिवर्तन की बात कर चुके तो फिर हम अभी तक आंदोलित क्यों नहीं हुए ?? व्यवस्था परिवर्तन के इस महत्वपूर्ण विषय को किसी भी टीवी डीबेट का हिस्सा क्यों नहीं बनाया जाता ?? आख़िर हम कब तक और क्यों ब्रिटिशों के ग़ुलाम बने रहेंगे। अपनी आँखों के सामने प्रतिदिन अधर्म को बढ़ता हुआ देखने वाला,सबसे बड़ा अधर्मी होता हैं।विजय सत्य की ही होगी।
धन्यवाद :- बदला नहीं बदलाव चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort