• Sat. Jun 25th, 2022

आज का पंचाग

Byadmin

Oct 7, 2021

………… ✦••• जय श्री हरि •••✦ ……….
••••••✤••••┈••✦👣✦•┈•••••✤•••••
🧾 आज का पंचाग 🧾
गुरुवार 07 अक्टूबर 2021

।। माता शैलपुत्री आप सभी का कल्याण करें ।।

🙏🏼 मित्रों, तारीख 07 अक्टूबर 2021 दिन गुरुवार से शारदीय नवरात्रि का आरंभ हो रहा है। आप सभी सनातनी बंधुओं को शारदीय नवरात्रा की बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनायें एवं अनन्त-अनन्त बधाइयाँ। मातारानी से हमारी हार्दिक प्रार्थना यही है, कि आप सभी सनातनियों कि सभी समस्याओं का समाधान कर उन्हें सुखद एवं आनंददायी जीवन प्रदान करें।

☄️ दिन (वार) – गुरुवार के दिन तेल का मर्दन करने से धनहानि होती है । (मुहूर्तगणपति)गुरुवार के दिन धोबी को वस्त्र धुलने या प्रेस करने नहीं देना चाहिए । गुरुवार को ना तो सर धोना चाहिए, ना शरीर में साबुन लगा कर नहाना चाहिए और ना ही कपडे धोने चाहिए ऐसा करने से घर से लक्ष्मी रुष्ट होकर चली जाती है ।
गुरुवार को पीतल के बर्तन में चने की दाल, हल्दी, गुड़ डालकर केले के पेड़ पर चढ़ाकर दीपक अथवा धूप जलाएं । इससे बृहस्पति देव प्रसन्न होते है, दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है ।
गुरुवार को चने की दाल भिगोकर उसके एक हिस्से को आटे की लोई में हल्दी के साथ रखकर गाय को खिलाएं, दूसरे हिस्से में शहद डालकर उसका सेवन करें।
इस उपाय को करने से कार्यो में अड़चने दूर होती है, भाग्य चमकने लगता है, बृहस्पति देव की कृपा मिलती है।
यदि गुरुवार को स्त्रियां हल्दी वाला उबटन शरीर में लगाएं तो उनके दांपत्य जीवन में प्यार बढ़ता है।और कुंवारी लड़कियां / लड़के यह करें तो उन्हें योग्य, मनचाहा जीवन साथी मिलता है।
🔮 विक्रम संवत् 2078 आनन्द, विक्रम सम्वत संवत्सर तदुपरि खिस्ताब्द आंग्ल वर्ष 2021
🔯 शक संवत – 1943,
☸️ कलि संवत 5122
☣️ अयन – दक्षिणायन
ऋतु – सौर शरद ऋतु
🌤️ मास – आश्र्विन माह
🌘 पक्ष – शुक्ल पक्ष,
📆 तिथि – प्रतिपदा – 13:46 तक तत्पश्चात द्वितीया
📝 तिथि का स्वामी – प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि जी और द्वितीया तिथि के स्वामी ब्राह्ग जी है।
💫 नक्षत्र – चित्रा – 21:13 तक तत्पश्चात स्वाती
🪐 नक्षत्र के देवता, ग्रह स्वामी- चित्रा नक्षत्र के देवता विश्वकर्मा और स्वाती नक्षत्र के स्वामी समीर जी है ।
📣 योग :- वैधृति – 25:40+ तक
प्रथम करण :- बव – 13:46 तक
द्वितीय करण :- बालव – 23:18 तक
🔱 दिशाशूल – बृहस्पतिवार को दक्षिण दिशा एवं अग्निकोण का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से सरसो के दाने या जीरा खाकर जाएँ ।
🤖 राहुकाल – दिन – 1:30 से 3:00 तक के समय में शुभ कार्य करना वर्जित माना गया है।
🌞 सूर्योदय – प्रातः 06:31:50
🌅 सूर्यास्त – सायं 18:19:26
🌟 अभिजित मुहूर्त : पूर्वान्ह 11:45 एएम से 12:32 पीएम तक
✡️ विजय मुहूर्त : दोपहर 02.06 पीएम से 02.53 पीएम तक
🗣️ निशिथ काल : रात 11.44 पीएम से 12.34 एएम तक (8 अक्टूबर)
🐃 गोधूलि मुहूर्त : संध्या 05.48 पीएम से 06.12 पीएम तक
👸🏻 ब्रह्म मुहूर्त : सुबह 04.39 एएम से 05.28 एएम तक (8 अक्टूबर)
💧 अमृत काल : दोपहर 03:23 पीएम से 04:50 पीएम तक
🚗 यात्रा शकुन- बेसन से बनी मिठाई खाकर यात्रा पर निकलें।
👉🏼 आज का मंत्र-ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरुवै नम:।
🤷🏻‍♀️ आज का उपाय-देवी मंदिर में पीली चुनरी भेंट कर मौली की बाती का दीप प्रज्ज्वलित करें।
🪵 वनस्पति तंत्र उपाय-पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाएं।
❄️ पर्व व त्यौहार – आश्विन शुक्ल पक्ष प्रारम्भ , शारदीय नवरात्र प्रारम्भ, महाराजा अग्रसेन जयन्ती (नवरात्री का प्रथम दिवस ), श्री नमिनाथ भगवान ज्ञान कल्याणक, गुरु गोविंद सिंह शहीदी दिवस, विश्व कपास दिवस, घटस्थापना
✍🏼 विशेष – प्रतिपदा को कद्दू एवं कूष्माण्ड तथा द्वितीया तिथि को कटेरी के फल का दान एवं भक्षण दोनों ही त्याज्य बताया गया है। प्रतिपदा तिथि वृद्धि और सिद्धिप्रद तिथि मानी जाती है। इसके स्वामी अग्नि देवता हैं और यह तिथि नन्दा नाम से विख्यात है।

               🗽 *_Vastu tips_* 🗼

वास्तु शास्त्र में बाथरूम के रंग के बारें में। वैसे तो आजकल के मॉडर्न टाइम में लोग बाथरूम और टॉयलेट दोनों अटैच करके बनवाते हैं। हर कमरे के साथ एक अलग अटैच बाथरूम और टॉयलेट।
वास्तु शास्त्र के अनुसार बाथरूम और टॉयलेट को एक साथ अटैच करके नहीं बनवाना चाहिए और खासकर की कमरे के अंदर तो बिल्कुल भी नहीं।
₹बाथरूम या टॉयलेट की दीवारों पर सफेद, गुलाबी, हल्का पीला या हल्का आसमानी रंग सबसे बेहतर है। इन रंगों के प्रयोग से मन को सुकून मिलता है। वहीं अगर बाथरूम की टाइल्स की बात करें तो हमेशा लाइट कलर का उपयोग करें। गहरे रंग की टाइल्स न लगाएं। टाइल्स का रंग सफेद, आसमानी या ब्लू होना चाहिए। ये रंग बाथरूम को बिल्कुल फ्रेश लुक देते हैं। वहीं काले और लाल जैसे गहरे रंगों से बचें।
वास्तु के हिसाब से बाथरूम में रखी बाल्टी के रंग का भी ध्यान रखना चाहिये। बाथरूम में नीले रंग की बाल्टी रखें। वास्तु के अनुसार यह शुभ भाग्य का वाहक है। इससे घर में खुशियां आती हैं।_

           ♻️ *_जीवनोपयोगी कुंजियां_* ⚜️

बैंगन का सेवन करने के अन्य फायदे
वजन को नियंत्रित करना चाहते हैं तो आप बैंगन को अपनी डाइट में शामिल करें। बैंगन में फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है। फाइबर पेट को लंबे वक्त तक भरा रखता है। जिससे कि अपने आप वजन कम होने लगता है।
दिल को रखता है हेल्दी बैंगन में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स दिल से संबंधित दिक्कतों से आपको बचाता है।
डाइजेस्टिव सिस्टम रखता है दुरुस्त बैंगन पाचन तंत्र को दुरुस्त रखता है।इसकी वजह इसमें मौजूद फाइबर का होना है। अगर आप डाइट में बैंगन को शामिल करें तो ये कब्ज और पेट से संबंधित समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

             🍷 *_आरोग्य संजीवनी_* 🍶

👉🏼 जानिए तुलसी के पत्ते का सेवन करने के अन्य फायदे
तुलसी की पत्तियों का सेवन सर्दी जुकाम में काढ़ा बनाने में किया जाता है। इससे बहुत आराम मिलता है।
कहीं पर भी चोट लग गई हो तो तुलसी के पत्तों को पीसकर फिटकरी मिलाकर लगाने से घाव जल्दी भर जाता है।तुलसी में एंटी बैक्टीरियल तत्व होते हैं जो घाव को पकने नहीं देता और जल्दी ठीक कर देता है।
महिलाओं में अनियमित पीरियड की समस्या को भी तुलसी के पत्ते दूर करने में सहायक होते हैं।

             📖 *_गुरु भक्ति योग_* 🕯️

     * हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भले ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। हमारे इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे। आज के विचार में हमने नीयत और नजरों के बारे में बताया है।_*

‘इतनी जल्दी दुनिया की कोई चीज नहीं बदलती जितनी जल्दी इंसान की नीयत और नजरें बदल जाती हैं।’

     *_इस कथन में उन 2 चीजों के बारे में बताया है जो इंसान सबसे जल्दी बदलता है। ये दो चीजें हैं- नीयत और नजरें। इन दोनों के बारे में एक-एक करके डिटेल में बताएंगे।_*
     *_पहला है-इंसान की नीयत। किसी भी इंसान की नीयत कब और कैसे बदल जाए ये नहीं कहा जा सकता है। उदाहरण के तौर पर अगर आपके सामने वाला व्यक्ति किसी चीज को खा रहा है तो हो सकता है उस वक्त आपका वो खाने का मन ना हो। लेकिन हो सकता है कि कुछ देर बाद सामने वाले व्यक्ति को देखकर आपका उस चीज को खाने का मन बदल जाए। यानी की इंसान की नीयत का भरोसा करना मुश्किल होता है। इसी को आप पैसों को लेकर भी कह सकते हैं। अगर आपने किसी को पैसे उधार दिए हैं तो आपने मन में ये विश्वास कहीं ना कहीं होगा कि वो आपको पैसा वापस कर देगा। लेकिन हो सकता है कि सामने वाला आपका पैसा वापस भी कर दें। लेकिन उसकी नीयत में बदलाव भी आ सकता है। हालांकि इस बदलाव को कई लोगों ने असल जिंदगी में अनुभव भी किया होगा।_*
     *_दूसरा है- नजरें। इंसान की नजरें किसी के प्रति कब बदल जाए ये कहना मुश्किल है। हो सकता है कि सामने वाला व्यक्ति आपको बहुत पसंद हो। लेकिन अचानक वो कोई ऐसा काम कर दे, जिसकी आपको उम्मीद ना हो। ऐसे में आपकी नजरें बदल सकती हैं। हो सकता है कि जिस व्यक्ति को आप सम्मान के साथ देखते हों। बाद में आप उसे घृणा की नजर से देखें। इसी वजह से हमने कहा है कि इतनी जल्दी दुनिया की कोई चीज नहीं बदलती जितनी जल्दी इंसान की नीयत और नजरें बदल जाती हैं।_*

   *_●●●★᭄ॐ नमः श्री हरि नम: ★᭄●●●_*

⚜️ नवरात्रि के प्रथम दिन से नौ दिन तक लगातार हनुमान जी के मंदिर में जाकर उन्हें पान का बीड़ा चढ़ाएं। यह बीड़ा आप स्वयं बनाएं। नौ दिन किए गए ये कार्य आप जिस भी मंशा के साथ करेंगे वह जरूर पूरी होगी।
यदि मन की कोई आस पूरी न हो पा रही हो तो नवरात्रि में पूरे नौ दिन पांच प्रकार के सूखे मेवे लाल चुनरी में रखकर देवी को भोग लगाएं और बाद में इस भोग का सेवन सिर्फ आप करें।
धन प्राप्ति के लिए नवरात्रि में पूरे नौ दिन रोज एक समय पर देवी को ताजे पान के पत्ते पर सुपारी और सिक्के रखकर समर्पित करें।
यदि आर्थिक संकट या कर्ज के बोझ से दबे हों तो नवरात्रि में मखाने के साथ सिक्के मिलाकर देवी को अर्पित करें और फिर उसे गरीबों में बांट दें।
आज प्रतिपदा है । प्रतिपदा तिथि के स्वामी अग्नि देव हैं। प्रतिपदा को आनंद देने वाली कहा गया है।
रविवार एवं मंगलवार के दिन प्रतिपदा होने पर मृत्युदा होती है, लेकिन शुक्रवार को प्रतिपदा सिद्धिदा हो जाती है।
अग्नि देव इस पृथ्वी पर साक्षात् देवता हैं, देवताओं में सर्वप्रथम अग्निदेव की उत्पत्ति हुई थी । ऋग्वेद का प्रथम मंत्र एवं प्रथम शब्द अग्निदेव की आराधना से ही प्रारम्भ होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AllEscort